देश में सामने आया एक और बैंक घोटाला, इस बार कांग्रेस के इस मुख्यमंत्री पर आ सकती है आच

0
777
Another bank scam that came out in the country, this time Congress cm can come under trouble

देश के सभी बैंको में एक के बाद एक बड़े घोटाले सामने आ रहे है | ललित मोदी से शुरू हुई कहानी विजय माल्या से होती हुई नीरव मोदी तक पहुच चुकी है | लेकिन अब ताजा मामला पंजाब का है जहाँ पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के दामाद के नाम पर सीबीआई ने सिंभौली शुगर्स लिमिटेड, उसके चेयरमैन गुरमीत सिंह मान, डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर गुरपाल सिंह और अन्य के खिलाफ 97.85 करोड़ रुपए की कथित बैंक कर्ज धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।

Another bank scam that came out in the country, this time Congress cm can come under trouble

घोटाला 200 करोड़ से ज्यादा का है –

देश की सबसे बड़ी चीनी मिलों में से एक सिंभौली शुगर्स लिमटेड में हुए फर्जीवाड़े की सीबीआई जांच कर रही है। सीबीआई ने कंपनी के सीईओ जी एस सी राव, सीएफओ संजय तापड़िया, एक्जक्यूटिव डायरेक्टर गुरसिमरन कौर मान और पांच गैर-कार्यकारी निदेशकों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है। पहला मामला 97.85 करोड़ रुपए का है जिसे 2015 में फ्रॉड घोषित कर दिया गया। दूसरा कॉरपोरेट लोन का मामला 110 करोड़ का है। बैंक के मुताबिक सिंभौली शुगर्स ने पिछला लोन चुकाने के नाम पर 2015 में 110 करोड़ रुपये का फिर से लोन लिया। यह घोटाला 200 करोड़ रुपए से अधिक का है।

खुद के काम में लगाया किसानो का पैसा –

एफआईआर के मुताबिक ओबीसी ने 2011 में शुगर कंपनी को 148.60 करोड़ रुपए का लोन दिया। रिजर्व बैंक के एक स्कीम के तहत लोन 5,762 गन्ना किसानों को पैसा चुकाने के लिए दिया गया। लेकिन कंपनी ने फर्जीवाड़ा कर इस रकम को अपने काम के लिए भी खर्च कर लिया। 31 मार्च 2015 को यह लोन एनपीए बन गया। बैंक की ओर से 12 मई 2015 को इस लोन अकाउंट को फर्जी करार दे दिया गया और इसकी रकम 97.85 करोड़ रुपये बताई गई। लेकिन असल में बैंक को 109.08 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ।

सीबीआई के मुताबिक, दूसरा लोन 29 नवंबर 2016 को एनपीए घोषित किया गया। यह धोखाधड़ी ओबीसी की मेरठ ब्रांच में 2011 में व 2015 में की गई। बैंक की शिकायत में कहा गया है कि कंपनी ने 2011 में 148.59 करोड़ का कर्ज लिया था। जनवरी 2015 में 110 करोड़ रु. का नया कर्ज दिया गया था। लेकिन नवंबर 2016 में यह भी एनपीए बन गया था। बैंक ने 17 नवंबर 2017 को शिकायत दर्ज कराई थी।

नहीं रुक रहे बैंको में घोटाले –

जाहिर है की बैंको से मोटी रकम लेकर उसे ना चुकाने वाले उद्योगपतियों की संख्या दिनोदिन बढ़ती चली जा रही है और इससे देश को काफी आर्थिक नुकसान हो रहा है | आपको बता दे की नीरव मोदी के देश से भागने के बाद सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का खूब मजाक बनाया जा रहा है और जनता का कहना है की आखिर एक चौकीदार के होते हुए देश का पैसा खाकर कोई लुटेरा कैसे भाग सकता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here