राहुल गाँधी के खिलाफ आरोप तय, बाहर आकर राहुल ने दिया ये बयान

0
668

आरएसएस द्वारा दायर मानहानि मामले में राहुल गांधी की मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही हैं। राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ द्वारा दायर मानहानि केस में भिवंडी मजिस्ट्रेट कोर्ट ने राहुल गांधी के खिलाफ आरोप तय कर दिए हैं। IPC की धारा 499 और 500 में राहुल गांधी पर आरोप तय किए गये हैं। इसके पहले आज राहुल गांधी ठाणे के भिवंडी मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेशी के लिए पहुंचे थे। राहुल गांधी ने आरएसएस पर महात्मा गांधी की हत्या का आरोप लगाया था जिसके बाद मानहानि का केस दायर कर दिया गया था।

आरएसएस कार्यकर्ता ने किया था केस-

साल 2014 में आरएसएस कार्यकर्ता राजेश कुंटे ने राहुल गांधी के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला दायर किया था। जिसमें कुंट ने आरोप लगाया था कि राहुल गांधी ने संघ पर महात्मा गांधी की हत्या का आरोप लगाया है। उन्होंने संगठन की प्रतिष्ठा पर आंच पहुंचाई है।

charges fixed against rahul gandhi in rss defamation case

राहुल ने दिया ये बयान-

बयान दर्ज कराते हुए अपनी सफाई में राहुल गांधी ने कहा कि वो दोषी नहीं हैं। कोर्ट के बाहर राहुल ने कहा कि बीजेपी-RSS के लोग मुझपर केस करते रहते हैं। मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। राहुल ने कहा कि वो चुनाव लड़ेगे और जीतेंगे। राहुल के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और अशोक गहलोत में अदालत में मौजूद थे। अदालत ने राहुल पर आइपीसी की धारा 499 और 500 के तहत आरोप तय किए।आरएसएस मानहानि मामले में राहुल का बयान दर्ज करने के लिए 12 जून की तारीख तय की गई थी।

मानहानि का लगाया था केस-

आरएसएस के स्थानीय कार्यकर्ता राजेश कुंते ने ठाणे के भिवंडी में चुनावी रैली के दौरान राहुल गांधी का भाषण सुनने के बाद उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया था। आरएसएस के स्थानीय कार्यकर्ता राजेश कुंते ने ठाणे के भिवंडी में चुनावी रैली के दौरान राहुल गांधी का भाषण सुनने के बाद उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया था।

मारे गए कार्यकर्ता की पत्नी से भी मिले राहुल-

कोर्ट में पेश होने से पहले राहुल गांधी होटल में रुके। जिस होटल में वह रुके हुए थे उसके बाहर हाल ही में मारे गए कांग्रेस कार्यकर्ता मनोज महात्रे की पत्नी गेट पर खड़ी थी। जब राहुल गांधी को इस बारे में जानकारी हुई तो उन्होंने तुरन्त उन्हें मिलने के लिए बुला लिया।

होटल में करीब एक घंटे तक राहुल ने उनके परिवार से बातचीत की।

पसंद आया राहुल का ये अंदाज-

राहुल गाँधी का अपने मारे गए कार्यकर्त्ता के परिवार से मिलना कही ना कही उन्हें जनता के करीब ले जाता है| वो अक्सर ऐसे काम करते है जो उनकी छवि को बढाने का काम करते है| इसके पहले भी राहुल गाँधी कई बार मंच से उतरकर अपने कार्यकर्ताओ से मिल चुके है|

Previous articleप्रणव दा के आरएसएस मंच में जाने पर क्या बोले आडवानी
Next articleअब एक साथ चुनाव लड़ने को तैयार भाजपा और शिवसेना, लेकिन फंस गया ये पेंच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here