सर्दियों में बढ़ सकता है कोलेस्ट्रॉल, ऐसे करें बचाव

0
908
मौसम के बदलाव के साथ ब्लड लिपिड स्तर में उतार-चढ़ाव हो सकता है। सर्दियों में यह बढ़ सकता है, जबकि गर्मियों में कम हो सकता है। यह उतार चढ़ाव 5 एमजी तक का हो सकता है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के मनोनीत अध्यक्ष केके अग्रवाल ने कहा, “ब्लड कोलेस्ट्रॉल स्तर का सीधा संबंध दिल के रोगों से है।
ब्लड कोलेस्ट्रॉल का स्तर जितना ज्यादा होगा दिल के रोगों और दौरे का खतरा उतना ही ज्यादा होगा। भारत में महिलाओं और पुरुषों की मौतों का सबसे बड़ा कारण दिल का दौरा है। कोलेस्ट्रॉल स्तर में 10 प्रतिशत की गिरावट से दिल के दौरे की संभावना 20 से 30 प्रतिशत तक कम हो जाती है।
सर्दियों में बढ़ सकता है कोलेस्ट्रॉल, ऐसे करें बचाव (Health)
सीरम टोटल और एचडीएल-कोलेस्ट्रोल की जांच भूखे पेट और खाने के बाद की जाती है। इन दोनों के माप में मामूली सा चिकित्सकीय फर्क होता है। तनाव, मामूली बीमारी और पोस्चर की वजह से किसी व्यक्ति में 4 से 11 प्रतिशत तक कोलेस्ट्रॉल की मात्रा का फर्क हो सकता है। अलग-अलग प्रयोगशाला से भी 14 प्रतिशत तक का फर्क आ सकता है।
एक मानक सीरम लिपिड प्रोफाइल में टोटल कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड्स और एचडीएल कोलेस्ट्रॉल शामिल होता है। लिपिड प्रोफाइल भूखे रहने के 12 से 14 घंटे बाद कराना चाहिए। इसके लिए प्लाज्मा या सीरम स्पेसिमन का प्रयोग किया जा सकता है।
 
सर्दियों में कोलेस्ट्रॉल ऐसे रखें नियंत्रण में 
सेहतमंद फैट चुनें : सैचुरेटेड फैट अस्वस्थ एलडीएल बढ़ाते हैं और ट्रांस फैट को कम करते हैं जो एलडीएल और प्रोटेक्टिव एचडीएल को बढ़ाता है। इसलिए इसका परहेज करें।
होल ग्रेन लें : होल ग्रेन ब्रेड, पास्ता, सीरियल्स ब्लड शूगर बढ़ने से बचाते हैं और दिन भर पेट भरा रहता है। इनमें फाइबर होता है, जो एलडीएल का स्तर कम करता है।
सेहतमंद आदतें अपनाएं : ज्यादा फल और सब्जियां खाएं। प्रोसेस्ड फूड की जगह इनका प्रयोग करें। फैट फ्री दूध लें।
Previous articleकेजरीवाल ने कहा, पंजाब में 40 लाख से अधिक युवा नशे के आदी
Next articleकैशलेस लेनदेन के समर्थन में आईआरसीटीसी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here