हिन्दू धर्म के सोलह श्रृंगार

0
2247

भारतीय संस्कृति में इसका बहुत ही महत्व है | सर से लेकर पाँव तक सजना-संवरना और एक पूरी भारतीय नारी दिखना , इसी को ही कहते है सोलह श्रृंगार |

इसे आमतौर पे लडकिया शादी के एक साल तक या फिर किसी विशेष त्योहारों में करती है , लेकिन आजकल ऐसा कुछ संभव नहीं क्योकि शादी के 15 दिन बाद ही लड़की दफ्तर जाने लगती है और वह ये सब नहीं कर सकती |

Hindus make up

आपको बताते है कौन कौन से श्रृंगार है इसमें –

  • माथे का टीका –

सबसे ऊपर माथा होता है और वही से शुरू होता है सोलह श्रृंगार का ये सफर |

माथे में टीका सबसे पहला श्रृंगार है |

  • बिंदिया –

सुन्दरता को बढ़ाने में सबसे सहायक यह एक स्त्री का मुख्य श्रृंगार है |

  • काजल –

यह आँखों की सुन्दरता में चार चाँद लगा देता है |

  • नथुनी –

इसका चलन आजकल बहुत कम है , लेकिन यह विज्ञान और संस्कृति दोनों की दृष्टि से बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है | इसे नाक में पहनते है जो की सुन्दरता को बढ़ा देती है|

  • सिन्दूर –

आपकी शादी हो चुकी है और आप सुहागन है इसका सबसे बड़ा प्रमाण ये सिन्दूर ही है |मांग में सिन्दूर भरके ही कोई लड़का किसी लड़की को अपना बनता है | यह श्रृंगार का सबसे महत्वपूर्ण चीज है |

  • मंगलसूत्र –

विवाह को मंगल बनाने वाली सबसे पवित्र चीज | आजकल इसको बहुत कम देखा जाता है लेकिन ये सुहागन की एक बहुत जरूरी चीज है | कहते है सुहागन स्त्री का गला कभी भी खाली नहीं रहना चाहिए और इसके लिए मंगलसूत्र  है|

  • इयर रिंग  –

कान के बूंदे भी कह सकते है हम इनको |विज्ञान की माने तो कान की नसे नारी के नाभि से होकर पैरो तक पहुचती है जिससे उसके सहिष्णुता निर्धारित होती है |

यह सोलह श्रृंगार का मुख्य हिस्सा है और हर स्त्री को इसे जरूर धारण करना चाहिए |

  • मेहंदी –

इसकी खुशबू बहुत अच्छी होती है और इसे लगाने से हाथ भी खूबसूरत लगता है |

  • चूड़ी या कंगन –

यह एक सुहागन की निशानी हैं और भारतीय वेदों में इसका काफी उल्लेख मिलता हैं |

  • गजरा –

वेदो इसका सम्बन्ध सुगंध से बताया गया हैं की जब औरत इसे पहन के घर में रहेगी तो घर का वातावरण सुगन्धित हो जाएगा |

  • बाजूबंद –

अब इसका इस्तेमाल नहीं होता लेकिन सोलह श्रृंगार में ये भी आता है |

  • अंगूठी –

आजकल अंगूठी पहनाना काफी चलन में है |ऊँगली का सम्बन्ध सीधे दिल से होता है |

  • कमरबंद –

कमर के दर्द को नियंत्रित करने के साथ-साथ आपकी सुन्दरता को भी बढ़ाता है |

  • पायल –

आप की पायल आपके श्रृंगार का मुख्य भाग है |

  • बिछिया – सुहागन औरते इसे पहनती है और वैज्ञानिक दृष्टी से भी आवश्यक है |
  • वस्त्र – एक अच्छे साडी आपके इस सोलह श्रृंगार को पूरी करती है , इसलिए साडी ही पहने |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here