आंधप्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा ना मिलने पर अब अब YSRCP के पाचं सांसदों का इस्तीफ़ा

0
606

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर टीडीपी और वाआईएसआरसीपी केंद्र सरकार पर लगातार दबाव बना रहे हैं। एक तरफ जहां आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने खुद को केंद्र सरकार से अलग कर लिया है तो दूसरी तरफ वाईएसआरसीपी के पांच सांसदों ने आज लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा देने का फैसला लिया है। वाईएसआरसीपी के सभी पांच सांसद आज लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन को अपना इस्तीफा सौंप दिया है।

Now, YSRCP's five MPs resigns after Andhra Pradesh not getting special state status

चंद्रबाबू नायडू ने भी मोदी को बताया भगोड़ा –

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने को लेकर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर हैं। उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया है कि वह जानबूझकर सदन में भाग रही है। नायडू ने अपनी पार्टी के सांसदों से बातचीत के दौरान कहा कि भाजपा लगातार सदन में भाग रही है और वह बार-बार सदन की कार्यवाही को स्थगित करा रही है। पिछले कई दिनों से भाजपा सदन की कार्रवाई को लगातार स्थगित करा रही है, ऐसे में अगर आज भी सदन की कार्रवाई को अनिश्चित काल के लिए स्थगित किया जाता है तो हमारे सांसदों को राष्ट्रपति से जरूर मुलाकात करनी चाहिए।

चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने को लेकर केंद्र सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था और उनके सांसदों ने सरकार में अपने मंत्रीपद से भी इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद उनकी पार्टी ने एनडीए से भी अलग होने का फैसला लिया था। नायडू आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की मांग को लेकर केंद्र सरकार पर धोखाधड़ी का आरोप लगा चुके हैं। उन्होंने पीएम मोदी पर भी निशाना साधा और उनपर आंध्र की सरकार में फूट डालने का आरोप लगाया था। नायडू ने कहा कि राज्य के विभाजन के बाद, हमें हाथ पकड़ने की ज़रूरत थी और इसी वजह से हम एनडीए में शामिल हुए। हमने साथ अभियान चलाए और लोगों को आश्वासन दिया कि न्याय किया जाएगा और लोगों ने हमारे लिए मतदान किया। हर कोई सोचा था कि बीजेपी से संयोजन बेहतर होगा। पिछले चार वर्षों के दौरान दिल्ली में मेरे 29 दौरे के बावजूद, मामूली चीज़ों को छोड़कर कुछ नहीं हुआ है। नायडू ने कहा कि ‘तिरुपति में एक मीटिंग के दौरान, प्रधानमंत्री ने कहा था कि अमरावती की राजधानी दिल्ली की तुलना में बेहतर होगी। उन्होंने मुझे सलाह दी कि मैं कजाकिस्तान की राजधानी अस्ताना से आईडिया लूं। मुझे नहीं पता कि इसके बाद क्या हुआ।’ अब जब हम हमारी आवाज उठा रहे हैं तो आप (बीजेपी) मेरी सरकार को परेशान कर रहे हैं।

chandrababu

जाहिर है की बीजेपी ने वादा किया था की अगर टीडीपी उनके साथ आती है तो वो आँध्रप्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देगे|

Previous articleआरक्षण को लेकर झूठ फैला रहा है विपक्ष: अमित शाह
Next articleविराट कोहली का यह वीडियो सोशल मीडिया पर हुआ वायरल, लोगों ने जमकर लिए मजे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here