मैं होता तो उनका सिर तोड़ देता : नाना पाटेकर

0
970

नाना पाटेकर हमेशा ही अपने तीखे और स्पस्ट बोल के लिए जाने जाते हैं चाहे वह सैनिको को लेकर हो या फिर किसानो की आत्महत्या को लेकर | इस बार नाना पाटेकर ने अपना गुस्सा जाहिर किया हैं बेंगलोर में हुए लड़कियों के साथ छेडखानी से | नाना ने कहा की मैं उनका सर तोड़ देता |

नाना से इस घटना पर सवाल पूछा गया था। उनसे पूछा गया था कि कानून महिलाओं को कैसे न्याय दिला सकता है। नाना ने इन घटनाओं के लिए पश्चिमी सभ्यता को दोष देने वालों पर जमकर गुस्सा निकाला। उन्होंने कहा “महिलाएं पश्चिम जैसे कपड़े हमेशा से पहन रही हैं। परेशानी हमारे दिमाग में है न कि महिलाओं के कपड़ों में। मुझे खुद में सुधार की जरूरत है बजाए दूसरों को उनके कपड़ों के बारे में कहने के।”

So I would have to break his head: Nana Patekar

इस मौके पर प्रसून जोशी भी उपस्थित थे। नाना ने कहा, “मैं प्रसून के विचारों से सहमत हूं। इन बदमाशों की पिटाई बहुत जरूरी है तभी चीज़े ठीक होंगी परंतु आज कल ये ह्यूमन राइट्स वाले आकर बेकार के सवाल करने  लगते हैं। अगर उन्होंने ऐसा कुछ मेरी बेटी या बहन के साथ किया होता तो मैंने उनके सिर फोड़ दिए होते और मुंह तोड़ दिए होते। बाकी की परेशानी मैं बाद में झेल लेता। हमारे भारतीय संस्कृति में महिलाओं के अपमान का रिवाज नहीं है। इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए कड़े कानून की जरूरत है।”

नेताओ को हटा दो पद से –

नाना से जब पुछा गया की हमारे नेता ऐसे स्थिति में भी गलत बयान देते हैं तो नाना ने कहा की ऐसे नेताओं को पद से हटा देना चाहिए क्योकि हमें उनकी जरूरत नहीं हैं |

जाहिर हैं की अभी हाल ही में बेंगलोर में शराब के नशे में सड़क पे चल रही कुछ लडकियो  के साथ बदसलूकी की गई और उनके कपडे फाड़ दिए गए और ये सब पुलिस की मौजूदगी में हुआ | इसके बाद यह मामला बहुत बड़ा तूल लिए हुए हैं और सभी नेता और अभिनेता इसके बारे में अपने बयान देते नजर आ रहे हैं

Previous articleड्रामा क्वीन के फोटो शूट की तस्वीरें ने सोशल मीडिया पर मचाया तहलका
Next articleTv की इस अभिनेत्री को हॉट तस्वीर पोस्ट करके झेलने पड़े फैंस के ताने

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here