ट्रिपल तलाक को को सुप्रीम कोर्ट ने बताया मौत

0
1047

देश के सबसे चर्चित मुद्दों में से एक ट्रिपल तलाक पे लगातार दुसरे दिन सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया और इसपर अपनी राय दी | ट्रिपल तलाक पर सुनवाई कर रही पीठ का नेतृत्व देश के मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर खुद कर रहे हैं। उन्होंने भी ट्रिपल तलाक की तुलना मौत की सजा से की है। ट्रिपल तलाक को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने बेहद सख्त टिप्पणी करते हुए कहा है कि मुसलमानों में शादी को खत्म करने का ये सबसे बुरा और अवांछनीय रुप है।

triple talk is like death said supreme court

सलमान खुर्शीद ने रखा अपना पक्ष

कोर्ट ने सलमान खुर्शीद से पूछा कि क्या इस्लाम में निकाह और तलाक को लेकर मौजूद व्यवस्था और व्‍यावहारिकता में अंतर को आप बताना चाहेंते? क्या आप चाहते हैं कि सर्वोच्च न्यायालय वहीं व्यवस्था लागू करे जो इस्लाम में है? इसके जवाब में सलमान खुर्शीद ने हां कहा। उन्होंने आगे कहा कि कोर्ट को इस मामले में कोई कानून नहीं बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी और देश में तीन तलाक नहीं दिया जाता है। केवल भारतीय मुसलमान ऐसा करते हैं।

ये एक पाप के जैसा : सलमान

सलमान खुर्शीद निजी तौर पर सुप्रीम कोर्ट की इस मामले में सहयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मेरा निजी तौर पर मानना है कि ट्रिपल तलाक पाप है। उन्होंने कोर्ट को बताया कि ट्रिपल तलाक शरियत का हिस्सा नहीं है। वहीं ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का भी इस पर यही मानना है कि ट्रिपल तलाक पाप है लेकिन फिर भी ये वैध है।

सलमान खुर्शीद ने कहा कि निकाहनामे में शर्तें होती हैं जिसकी वजह से तलाक देना मुश्किल होता है। जब उनसे कोर्ट ने पूछा कि आखिर अन्य देशों में ट्रिपल तलाक खत्म करने के लिए क्या किया होगा तो सलमान खुर्शीद ने कहा कि जैसे यहां मामला उठा है वहां भी उठा होगा जिसकी वजह से इसे खत्म किया गया होगा।

जाहिर हैं की तरपाल टला को लेकर देशभर में पिछले कई सालों से बहस चल रही हैं और सुप्रीम कोर्ट ने भी इसपे अपना कड़ा रुख इख़्तियार करते हुए इसे पाप बताया हैं फिर भी यह समस्या ख़तम नही हो रही |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here