इनकम टैक्स की छापेमारी में बुरे फंसे लालू, कभी सहयोगी दलों पर तंज कसा कभी दिखाया भरोसा.

0
1139
income tax raids on lalu's premises

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव पर आज सुबह बड़ी कार्यवाही करते हुए उनके 22 ठिकानो पर छापेमारी की. इनकम टैक्स ने दिल्ली, गुड़गांव के इलाकों में छापेमारी की है, इस दौरान लगभग 1000 करोड़ की संपत्ति पर छापेमारी की गई है.  लालू यादव के बेनामी संपत्ति को लेकर आयकर विभाग ने लालू यादव की बेटी-दामाद के ठिकानों पर भी  छापेमारी की. इसके अलावा लालू के सहयोगी पीसी गुप्ता के संबंधियों के यहां भी आयकर विभाग द्वारा छापेमारी किये जाने की खबरें हैं.

income tax raids on lalu's premises

आपको याद दिला दें कि पिछले हफ्ते भाजपा ने लालू प्रसाद, उनकी सांसद बेटी मीसा भारती और उनके दोनों बेटों पर लगभग 1,000 करोड़ रूपये के भ्रष्ट भूमि सौंदों में शामिल होने का आरोप लगाया था और केंद्र सरकार से दिल्ली में हुए ऐसे ही एक सौदे की जांच की मांग की थी.

लालू ने दी केंद्र सरकार को चुनोती

इस छापेमारी के बाद लालू यादव के घर पर तो मायूसी छाई हैं लेकिन लालू यादव लगातार ट्विटर पर मोदी सरकार पर हमला कर रहे हैं. लालू यादव के एक ट्वीट से ऐसा लगा कि कहीं लालू प्रसाद यादव व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश  कुमार के बीच तो कुछ अनबन नहीं हैं. लालू प्रसाद ने एक ट्वीट में में भाजपा  ‘नए गठबंधन साथी’ मिलने पर बधाई की बात कही है. लालू ने ट्वीट किया, ”बीजेपी को नए एलायंस पार्टनर मुबारक हों. लालू प्रसाद झुकने और डरने वाला नहीं है. जब तक आखिरी सांस है फासीवादी ताक़तों के ख़िलाफ़ लड़ता रहूंगा.”

हालाँकि इसके बाद लालू यादब ने एक और ट्वीट करके ऐसी किसी भी अटकल पर विराम लगाने की कोशिश भी की. अपने दुसरे तवीत में लालू यादव ने बीजेपी पर हमला करते हुए लिखा, “ज़्यादा लार मत टपकाओ, गठबंधन अटूट है. अभी तो समान विचारधारा के और दलो को साथ जोड़ना है. मैं बीजेपी के सरकारी तंत्र और सरकारी सहयोगियो से नहीं डरता.”

पहले बीजेपी ने  नीतीश कुमार को दी थी चुनोती

इससे पहले, केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लालू के खिलाफ कार्रवाई करने की चुनौती दी थी. केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि बिहार में कई संदिग्ध भूमि सौदे हुए हैं. उन्होंने बिहार के वर्तमान मुख्यमंत्री से पूछा कि क्या नीतीश अपनी सरकार के उस विशेष कानून का इस मामले में इस्तेमाल करेंगे जिसमें गैरकानूनी धन से प्राप्त संपत्तियों को जब्त करने का प्रावधान है.

हालाँकि नीतीश कुमार ने इन बातों का यह कहकर जवाब दे दिया था कि  केंद्र सरकार जिससे चाहें इस मामले में जांच करा सकती है.

नीतीश ने ये भी कहा कि अगर भाजपा को लगता है कि वाकई उनके आरोपों में दम है तो वो कानून का सहारा ले सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here