अपने पसंदीदा उम्मीदवारों को टिकट देने से सपा में फिर चिंगारी के आसार

0
1510
again spark expected in SP by giving tickets to favourites

यूपी विधानसभा चुनाव में जीत की प्रबल दावेदार मानी जा रही समाजवादी पार्टी में एक बार फिर से मतभेद उत्पन्न होने की आशंका हैं और इसका कारण अपने पसंदीदा प्रत्याशियों को टिकट देने से सम्बंधित हैं | गौरतलब हैं की सपा ने अपने 175  की लिस्ट जारी कर दी है जिसमे कई सारे दागी छवि के है जो की अखिलेश यादव को पसंद नहीं है इसीलिए अखिलेश ने अपने करवाए सर्वे के अनुसार 403 उम्मीदवारों की सूची तैयार की हैं और पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव को भिजवाई हैं | पार्टी के संचालन और प्रत्याशी चयन के तौर-तरीकों से असंतुष्ट मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव को पत्र लिखकर अपनी आपत्ति दर्ज कराई। माना जा रहा है कि अखिलेश ने पार्टी नेतृत्व पर दबाव बनाने के लिए यह कदम उठाया है। मुख्यमंत्री के इस कदम से समाजवादी पार्टी में टूट की आशंका भी जताई जा रही है। बताया जा रहा हैं क सपा के द्वारा जारी की गए लिस्ट में कई सारे उम्मीदवार दागी हैं जो की अखिलेश को पसंद नही और अखिलेश का कहना हैं की अगर वोट उनकी अगुवाई में मागे जा रहे हैं तो फिर टिकट भी वही बांटेगे और वो ऐसे छवि वाले लोगो का मुखर विरोध करते हैं |

again spark expected in SP by giving tickets to favourites

शिवपाल सिंह यादव के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद अखिलेश के कई करीबियों के टिकट कटे हैं या फिर उन्हें संगठन के पदों से मुक्त कर दिया गया है। कुछ चहेतों को तो पार्टी से भी निष्कासित कर दिया गया है। अखिलेश इससे बेहद खिन्न हैं। खुद को मुलायम का स्वाभाविक उत्तराधिकारी बता चुके अखिलेश ने इसे अपने एकाधिकार को चुनौती मानते हुए शनिवार को सपा मुखिया को पत्र भेजकर पूरे घटनाक्रम पर अपनी आपत्ति दर्ज करा दी। अखिलेश ने कहा की उनकी यह लिस्ट कराये गए सर्वे के अनुसार हैं तो वही शशिवपाल यादव ने इस पर आपत्ति जताई हैं |

क्या कहा शिवपाल ने –

उन्होंने कहा की टिकट का बटवारा जीत के आधार पे होगा और मुख्यमंत्री का चुनाव विधायक दल करेगा जो की पार्टी के संविधान में निहित हैं | अब देखना ये हैं की क्या टिकट बाटने का ये महासंग्राम कौन जीतता हैं और इससे सपा को कितना फायदा होगा |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here