गुजरात चुनाव : पीएम का सूट खरीदने वाले व्यापारी के जीजा को बीजेपी ने दिया टिकट

0
936

हमारे देश में चुनावी टिकट हमेशा पैसो के दम पे बिकते आये हैं और इस बार भी कुछ ऐसा ही होनी जा रहा हैं गुजरात चुनाव में | गुजरात चुनाव में भी टिकटों की खरीद फरोख्त चालू हैं और बताया जा रहा हैं की तीसरी सूची में भाजपा ने सूरत पूर्व से कांतिभाई हीमतभाई बल्लार(पटेल) को टिकट दिया है। आपको बता दें कि कांतिभाई हीरा व्यापारी लालजी पटेल के जीजा है। हम उस हीरा व्यापारी लालजी पटेल की बातकर रहे हैं जिसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मोनोग्राम वाला सूट खरीदा था। ऐसे में यह आरोप लगाया जा रहा है कि लालजी के मोदी का करीबी होने का फायदा कांति बल्लार को मिला है। कंस्ट्रक्शन का बिजनेस करने वाले कांति बल्लार को यह टिकट बीजेपी से दो बार विधायक रहे अजय चोकसी की जगह दिया गया है।

bjp gives ticket to relative of the person who bought modi suit

सूरत के वारछा वार्ड नंबर 6 से कांति बल्लार 2010 में नगर निगम का चुनाव जीत चुके हैं, उनकी इस इलाके में अच्छी पकड़ भी मानी जाती है। वहीं दूसरा कारण पाटीदार आंदोलन से डरी भाजपा पटेल वोटों को अपनी ओर करने की कोशिश कर रही है। जिस वजह से कांतिभाई को टिकट दिया गया है।

इधर कांग्रेस इन्हें दे सकती हैं टिकट –

निलंबित शिक्षिका और कॉन्ट्रैक्ट ऐंड फिक्स्ड सैलरी स्ट्रगल्स कमिटी की महिला शाखा की अध्यक्ष चंद्रिका सोलंकी को कांग्रेस वडोदरा से विधानसभा चुनावों टिकट दे सकती है। आपको बता दें कि चंद्रिका सोलंकी उस समय चर्चा में आ गई थीं जब उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी के वडोदरा रोड शो के दौरान पीएम मोदी पर चूड़ियां फेंकी थी। जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था |

सामान बेतन के लिए लड़ रही हैं –

इस घटना के बाद जिग्नेश मेवाणी ने वीडियो ट्वीट करके दावा किया था, ‘गुजरात की यह क्रांतिकारी वीरांगना चंद्रिका सोलंकी ने 45 हजार आशा वर्कर बहनों को न्यूनतम वेतन नहीं देने पर आज मोदी के मुंह पर चूड़ियां फेंकीं।’ चंद्रिका राज्य में हेल्थ ऐक्टिविस्ट (आशा वर्कर्स) के समान अधिकार और समान वेतन के लिए आंदोलन चला रही हैं। चंद्रिका सोलंकी के साथ ही कॉन्ट्रैक्ट ऐंड फिक्स्ड सैलरी स्ट्रगल्स कमिटी के नेता और चंद्रिका के पति रजनीकांत सोलंकी को भी हिरासत में लिया गया था। उग्र प्रदर्शन के दौरान आशा वर्कर्स ने कथित तौर पर वडोदरा जिला कलेक्ट्रेट में पोस्टर फाड़े थे। गुजरात में आशा कार्यकर्ता सैलरी बढ़ाने की मांग को लेकर आंदोलन कर रही थीं और सरकार ने उनके वेतन में बढ़ोतरी की है।

जाहिर हैं की हमेशा की तरह दोनों पार्टियाँ विवादित लोगो को टिकट देने की तयारी में हैं लेकिन अब देखना ये हैं की इनका ये दाँव किस हद तक सही लगता हैं |

Previous articleकोटा में होने जा रहा धमाकेदार पोएट्री इवेंट , जानिये कैसे करे रजिस्टर
Next articleखुलासा : हार्दिक पटेल को बीजेपी ने दिया 1200 करोड़ का ऑफर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here