बड़ी खबर: डालमिया का हुआ लाल किला, ताज महल भी इसी लिस्ट में शामिल

0
1021

डालमिया भारत समूह, अगले पांच साल तक के लिए 25 करोड़ रुपये के अनुबंध के तहत लाल किला को ‘गोद लेने वाला’ भारत के इतिहास में पहला कॉर्पोरेट हाउस बन गया है। डालमिया भारत समूह ने इंडिगो एयरलाइंस और जीएमआर समूह को पीछे छोड़, भारत सरकार की ‘एडॉप्ट ए हेरिटेज’ योजना के तहत सबसे प्रतिष्ठित अनुबंधों में से एक को हासिल करने में सफलता हासिल की। डालमिया भारत समूह ने अगले कुछ महीनों में लाल किले को विकसित करने का इरादा रखकर विचार करना शुरू कर दिया है।  जुलाई में सुरक्षा एजेंसियों को अस्थायी रूप से लाल किला सौंपने से पहले 23 मई को काम शुरू कर देगा।

मोदी के भाषण से पहले होगा काम-

दरअसल, 15 अगस्त, स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले के प्राचीर से प्रधानमंत्री के भाषण के लिए इसे जुलाई में ही सुरक्षा एजेंसियों के हवाले कर दिया जाएगा। डालमिया भारत समूह के शीर्ष अधिकारियों ने कहा कि वे अस्थायी रूप से प्रधानमंत्री के स्वतंत्रता दिवस के भाषण के लिए इसे सौंपने से पहले नाइट इलूमनेशन को पूरा करने की योजना बना रहे हैं। स्मारक में अधिक पर्यटक आएं इसके लिए संगीत कार्यक्रमों और अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों जैसे विभिन्न कार्यक्रमों के लिए लाल किले का उपयोग करने की योजना है। चूंकि कॉरपोरेट हाउस अपने नियोजित कार्यों के साथ आगे बढ़ेगा, इसलिए यह लोगों को आकर्षित करने के लिए लाल किले को लोकप्रिय बनाने के लिए विभिन्न विपणन और विज्ञापन गतिविधियों को भी लॉन्च करेगा।

Dalmiya's got Red Fort

सर्वश्रेठ स्मारकों में होगा शामिल-

अंग्रेजी अखबार बिजनेस स्टैंडर्ड के अनुसार डालमिया समूह के अधिकारी ने कहा कि ‘हमें 30 दिनों के भीतर काम शुरू करना है और शुरुआत में पांच साल के लिए इसका स्वामित्व हमारे पास है। फिर अनुबंध पारस्परिक रूप से स्वीकार्य शर्तों पर बढ़ाया जा सकता है। यह हमें भारत में डालमिया ब्रांड को एकीकृत करने में मदद करेगा। आगंतुक हमारे ग्राहक होंगे। हम सिर्फ एक बार आने वाले पर्यटकों की बजाय नियमित रूप से यहां आने वाले दिल्ली और एनसीआर से अधिक लोगों पर ध्यान देना चाहते हैं। डालमिया भारत सीमेंट के समूह सीईओ महेंद्र सिंही ने कहा, ‘हम इसी तरह के स्मारक विकसित करेंगे और यह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ स्मारकों में से एक होगा।’

9 अप्रैल को हुआ mou साइन-

9 अप्रैल को डालमिया भारत लिमिटेड, पर्यटन मंत्रालय, संस्कृति मंत्रालय और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के बीच समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए थे, भले ही पर्यटन मंत्रालय 25 अप्रैल, 2018 को सौदा के साथ सार्वजनिक किया लेकिन यह कुछ स्मारकों और धरोहरों के कॉर्पोरेट नियंत्रण की अनुमति देने के लिए मोदी प्रशासन की योजना का हिस्सा था, ताकि उनके रखरखाव और संचालन को और अधिक पेशेवर तरीके से संभाला जा सके। अनुबंध के तहत, डालमिया भारत समूह को लाल किले के आसपास के समय सीमा के तहत एक बड़े बदलाव के साथ काम करना होगा।

Previous articleकिसान आत्महत्या: बीजेपी के मंत्री के बिगड़े बोल, आईपीएस और आईएस भी करते है आत्महत्या, यह एक ग्लोबल समस्या है
Next article3 देव फिल्म पर्दे पर हुई रिलीज, फ़िल्मी पर्दे पर उतरे अंडरकवर भगवान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here