चुनाव से पहले किसानो से उड़ाई शिवराज की नींद, मनाने में जुटा पूरा प्रशासन

0
606

मध्यप्रदेश में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और किसान शिवराज सरकार से नाराज हैं। किसानों ने सरकार के खिलाफ आंदोलन करने की धमकी दी है, सरकार इस आंदोलन को दबाने की हर संभव कोशिश कर रही है। किसानों के समर्थन में भारतीय किसान मजदूर महासंघ भी आ गया है और एक जून से आंदोलन करने का ऐलान भी कर दिया है। किसानों के आंदोलन को रोकने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह 30 मई को मंदसौर जा रहे हैं।

दबाया जा रहा है आन्दोलन-

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, करीब 400 गांवों में सरकारी कर्मचारी घूम-घूमकर किसानों को आंदोलन में शामिल होने से रोकने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं, एक किसान नेता ने शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि वो इस बार सरकार के झांसे में नहीं आएंगे।

शिवराज पर निशाना-

किसान नेता शिव कुमार शर्मा ने शिवराज सरकार पर निशाना साधा और कहा कि जो ‘गांव बंद’ का ऐलान किया है वह एक जून से दस जून तक चलेगा। इस दौरान किसी भी किसान परिवार को असुविधा ना हो इस बात का ख्याल रखा जाएगा। लेकिन, कोई भी शिवराज सरकार के दबाव के आगे किसान नहीं झुकेंगे। कहा जा रहा है कि देश के 147 संगठनों ने इस किसान आंदोलन को अपना समर्थन दिया है।

Prior to the election big trouble for shivraj

कांग्रेस भी हमलावर-

वहीं, इस मामले में राजनीति भी तेज हो गई है। मध्यप्रदेश राज्य कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी ने शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पिछले साल 2017 में किसानों द्वारा हुए प्रदर्शन में पुलिस की गोलियों से छह किसानों की जान चली गई। जीतू पटवारी ने आगे कहा कि किसानों की मौत के बाद आयोग बनाया था उस आयोग का क्या हुआ? किसानों की मौत का दोषी कौन है?

एमपी में बदल रहे है समीकरण-

आपको बता दे की सूबे में इस बार अलग ही हवा देखने को मिल रही है| कांग्रेस के बड़े बड़े नेता वहां लगातार एकतीस हो रहे है और पिछले कई सालो से शिवराज के चल रहे राज को बेकार बताने में तुले है| कही ना कही बहुत सारी योजनायें ऐसी है जो अब बीजेपी के खिलाफ जा रही है और अब बीजेपी इस बार एमपी से उखड़ने जा रही है| कांग्रेस की तरफ से ज्योतिरादित्य लगातार बीजेपी पर हमला कर रहे है और लोगो को जागरूक करने में लगे हुए है| अब देखना है की ज्योतिरादित्य के नेतृत्व वाली ये कांग्रेस टीम आखिर कितना आगे जाती है| वही कहा जा रहा है की बीजेपी में इस बार शिवराज मुख्यमंत्री का चेहरा नहीं होगे और इस बार उसे बदला भी जा सकता है| क्योकि कही ना कही जनता का रुख साफ़ समझ आ रहा है की वो शिवराज से नाराज है|

Previous articleमोदी और योगी को चुनौती है की लोकसभा के साथ कराये यूपी विधानसभा चुनाव: अखिलेश
Next articleसिर्फ प्रणव दा ही नहीं, उनके अलावा संघ के कार्यक्रम में होगे ये मेहमान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here