यूपी चुनाव : साथ में प्रचार नहीं करेंगी प्रियंका गाँधी और डिंपल यादव.

0
1709

उत्तर प्रदेश में चुनावी रण की रणभेरी गूंजने वाली हैं, लेकिन अभी तक सारी सुर्खियाँ सपा ही लूट रही हैं. समाजवादी परिवार के झगड़े के चलते हर जगह सिर्फ इसी राजनितिक दल की चर्चा हो रही हैं. अब जब सपा अखिलेश की हो गयी हैं तो बहुत संभावनाएं है कि सपा और कांग्रेस का गठबंधन भी हो जाएँ. ऐसा इसलिए क्यूंकि भाजपा से भिड़ने के लिए और मुस्लिमों के अधिकांश मत अपने पक्ष में करने के लिए सपा को कांग्रेस की मदद चाहिए और कांग्रेस जानती है कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस अपने दम पर कुछ खास कर नहीं सकती हैं.

ऐसी खबरें आ रहे थी कि कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गाँधी के विदेश से आते ही राहुल गाँधी और अखिलेश यादव में मुलाकात होगी और उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और सपा गठबंधन की सभी तस्वीर साफ़ हो जायेगी. हालाँकि अभी तक तो ये मुलाकात हो नहीं पायी हैं लेकिन ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि जैसे ही ये गठबंधन हो जायेगा तो कांग्रेस और सपा के नेता साथ साथ उत्तर प्रदेश में प्रचार करते दिखाई देंगे.

क्या प्रियंका गाँधी वाड्रा और डिंपल यादव साथ में कर सकती है चुनाव प्रचार

ऐसे में ये बातें भी चल रही हैं कि अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव और राहुल की बहन प्रियंका गाँधी  वाड्रा साथ में सपा व कांग्रेस के लिए उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार कर सकती हैं. उत्तर प्रदेश चुनावों में प्रियंका गाँधी  वाड्रा कांग्रेस की और से प्रचार करती ही हैं लेकिन अगर सपा और कांग्रेस का गठबंधन प्रदेश में हो जाता हैं तो प्रियंका  डिंपल यादव के साथ चुनाव प्रचार के लिए मंच भी साझा कर सकती हैं.

ऐसी खबरें भी आ रही थी कि कांग्रेस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर उत्तर प्रदेश में डिंपल और प्रियंका को साथ में चुनावी मैदान में उतारने की रणनीति बना रहे हैं. और इस विषय पर प्रियंका गाँधी  वाड्रा और डिंपल यादव के बीच संवाद भी बना हुआ हैं. लेकिन प्रियंका गाँधी वाड्रा की और से ऐसी किसी भी सम्भावना से इनकार करते हुए कहा है कि प्रियंका गांधी न तो अभी तक डिंपल यादव से मिलीं  हैं और न ही उनका इस तरह का अभी कोई प्लान है.

ऐसे में प्रियंका गाँधी और डिंपल यादव के साथ आने की सभी खबरों पर विराम लग गया हैं. लेकिन ऐसी खबरें आने के पीछे की वजहये  थी कि इन विधानसभा चुनावों में डिंपल यादव सपा की ओर से स्टार प्रचारक थी ही, साथ ही कांग्रेस की और से भी ऐसे संकेत मिल रहे थे कि इन चुनावों में कांग्रेस की और से  प्रियंका गाँधी  वाड्रा प्रचार करेंगी. ऐसे में लोगों ने कयास लगाने शुरू कर दिए कि दोनों नेता साथ में भी नज़र आ सकती हैं.

Previous articleयूपी चुनाव : मुस्लिम मतदाता तय करेगा प्रदेश का भाग्य.
Next articleयूपी चुनाव :लोकप्रियता में मोदी से कम नहीं अखिलेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here