फोर्ब्स मैगज़ीन ने क्यूँ दिया मोदी को नौवां व पुतिन को पहला स्थान.

0
1055
Why Forbes magazine ranked modi ninth and Putin first

Time मैगज़ीन द्वारा कराए गये रीडर पोल में पहले स्थान पर आने के बाद अब भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया के 10 सबसे ताकतवर लोगों में शामिल किया गया है.  दुनिया के सबसे शक्तिशाली लोगों की फोर्ब्स की लिस्ट में मोदी नौवें स्थान पर रहे हैं.  फ़ोर्ब्स ने बुधवार को  दुनिया के 74 सबसे ताकतवर लोगों की सूची ‘वर्ल्ड्स मोस्ट पावरफुल पीपल’ के नाम से सार्वजनिक की.

Why Forbes magazine ranked modi ninth and Putin first

इसलिए मिला मोदी को नौवां स्थान    

फोर्ब्स मैगजीन ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विषय में लिखा कि भारत में मोदी बहुत लोक प्रिय है. और इसके साथ ही भारत में मोदी द्वारा की गयी नोट बंदी की चर्चा अब फोर्ब्स ने भी की. फोर्ब्स ने मोदी की बराक ओबामा और शी जिनपिंग के साथ आधिकारिक मुलाकात का उल्लेख करते हुए मोदी को ग्लोबल लीडर भी कहा. मोदी के नाम के साथ जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए मोदी द्वारा किये जा रहे अंतरराष्ट्रीय प्रयासों को भी मेंशन किया.

चोथी बार भी पुतिन बनें सबसे शक्तिशाली व्यक्ति

पिछले चार सैलून से लगातार पुतिन इस सूची में पहले स्थान पर रहे हैं. पिछले वर्ष ओबामा को दूसरा स्थान मिला था. जबकि ओबामा न केवल राजनीती में बल्कि अन्य कारणों से भी लोक प्रिय रहे हैं.

क्यूँ पुतिन को मिला पहला स्थान

फोर्ब्स मैगज़ीन ने पुतिन को पहला स्थान विश्व में रूस की बढ़ती ताकत को देखते हुए दिया हैं. 64 साल के पुतिन को आक्रामक नेता समझा जाता हैं. पुतिन बेहद सक्रियता से अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करते हैं. आपको बता दें कि पुतिन एक पायलट की ट्रेनिग तो ले ही चुके हैं साथ ही पुतिन 16 साल तक रूस की खुफिया एजेंसी केजीबी को अपनी सेवाएँ भी दे चुके हैं.

पुतिन मई 2012 से रूस के राष्ट्रपति हैं. पुतिन के राष्ट्रपति रहते हुए रूस की इकॉनमी में काफी बढ़त हुई हैं. रूस की इकोनॉमी में लगातार आठ वर्षों बढ़त बनाये हुए हैं. साथ ही इस देश की जीडीपी में 72 फीसदी का इजाफा हुआ.

युक्रेन और सीरिया के युद्धों में रूस की भूमिका बहुत अहम् है. अंतर्राष्ट्रीय विरोध के बावजूद रूस ने  सीरिया में अपनी सेना का इस्तेमाल किया. साथ ही अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर हमेशा अपने इस फैसले का बचाव भी किया.

सीरिया में लादे जा रहे इस युद्ध में लाखों  लोगों की जान गयी लेकिन इसके लिए अडिग रहकर पुतिन ने सबसे ताकतवर व्यक्ति के रूप में खुद को प्रूव भी कर दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here