अपेंडिक्स का इलाज

0
1838

अपेंडिक्स आँत का एक टुकड़ा होता है, इसके संक्रमण जिसे अपेंडिसाइटिस कहते हैं, पेट दर्द पैदा करने वाला एक आम कारण है। अपेंडिक्‍स 10 से 30 साल की उम्र के लोगों में आम होता है। यह महिलाओं के मुकाबले पुरुषों में ज्‍यादा देखने को मिलता है |

जब यह अवरोध कुछ दिनों तक लगातार बना रहता है तो अंततः संक्रमण होकर अपेंडिक्स के फटने की स्थिति आ जाती है। अपेन्डिक्स का फटना एक आपात स्थिति है। अपेंडिक्‍स का सही समय पर इलाज बहुत जरुरी है |

Appendix treatment

आज हम आपको बता रहे अपेंडिक्स के घरेलू इलाज जिनको अपना के आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं |

अपेंडिक्स के घरेलू इलाज –

  • अदरक –

अदरक दर्द और सूजन को दूर करने में सहायक है। रोजाना अदरक की चाय 2 से 3 बार पियें। अदरक की चाय बनाने के लिये 1 कप उबलते हुए पानी में 1 छोटा चम्‍मच घिसा अदरक डाल कर 10 मिनट उबालें। दूसरा तरीका है कि अपने पेडु को अदरक के तेल से दिन में कई बार मसाज करें।

  • लहसुन –

रोजाना खाली पेट 2 से 3 कच्‍ची लहसुन का सेवन करें। ये अपेंडिक्स में आराम देता हैं |

  • नीम्बू –

एक नींबू निचोड़ कर उसमें कच्‍ची शहद मिलाइये। इस मिश्रण को दिन में कई बार लीजिये।

  • मेथी दाना –

1 कप पानी में 2 छोटे चम्‍मच मेथी डाल कर पानी को उबालें। इसके बाद इस पानी को दिन में एक बार पियें। खाने में भी मेथी दाने का प्रयोग करें। इससे दर्द और सूजन दूर होती है |

  • तुलसी –

इसके सेवन से आराम मिलता हैं और रोगी को बुखार आता है तो वो भी कम होता है |

  • तरल चीजे –

तरल पदार्थ से कब्ज दूर होता हैं और अपेंडिक्स की समस्या भी दूर होती हैं | फ्रूट जूस और पानी का सेवन करे |

  • फाइबर वाले भोज्य –

आपको हाई फाइबर वाले आहार जैसे, बींस, खीरा, टमाटर, चुकंदर, गाजर, ब्रॉक्‍ली, मटर, ब्राउन राइस, मुनक्‍का, वीट जर्म, कद्दू के बीज, सूरजमुखी के बीज और अन्‍य ताजे फल तथा सब्‍जियां खाने चाहिए जिससे आपेंदिक्स की समस्या दूर होती हैं |

  • दूध –

उबला दूध पीने से आराम मिलता हैं लेकिन उबाल कर इसे ठंडा करले |

  • सेंधा नमक –

लाल टमाटर में सेंधा नमक और अदरक मिलकर खाना खाने से पहले खाने पर आराम मिलता हैं |

  • पालक –

इसका साग बनाकर खाने से इस समस्या में आराम मिलता हैं |

  • चौलाई –

चौलाई का साग लेकर पीस लें और उसका लेप करें। इससे शांति मिलेगी और पीड़ा दूर होगी |

अपेंडिक्स की समस्या का समय रहते इलाज कराएँ और ध्यान रखे की यह मर्ज बढ़ने ना पायें नहीं तो समस्या अधिक हो सकती हैं |

Previous articleबनासकांठा में गरजे मोदी. कहा-मुझे संसद में बोलने नहीं दिया जा रहा.
Next articleआगुस्ता हेलिकॉप्टर घोटाला:तीन सालों में हुई पहली गिरफ्तारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here