नए विहिप अध्यक्ष का अयोध्या भ्रमण, साथ में विनय कटियार के विवादित बोल

0
672

नए विहिप अध्यक्ष बनने के बाद विष्णु सदाशिव कोकजे पहली बार अयोध्या के दौरे पर पहुंचे थे जहां उन्होंने हनुमानगढ़ी में दर्शन-पूजन किया। उन्होंने रामजन्मभूमि में रामलला के दर्शन भी किये। इस मौके पर उनके साथ विश्व हिन्दू परिषद के उपाध्यक्ष चंपत राय समेत विहिप के कई कार्यकर्ता मौजूद थे। उन्होंने अयोध्या के साधु-संतों से भी मुलाकात की। विष्णु सदाशिव कोकजे ने राम मंदिर निर्माण को लेकर अहम बैठक की और कारसेवकपुरम में राम मंदिर निर्माण की तैयारियों का भी जायजा लिया। इस दौरान विष्णु सदाशिव कोकजे ने राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा बयान भी दिया।

The new VHP president's visit to Ayodhya

जल्द ही होगा राम मंदिर का सपना साकार:

सदाशिव कोकजे ने कहा कि विहिप अपने राम मंदिर के मुद्दे पर आज भी कायम है और अयोध्या में राम मंदिर का सपना जल्दी ही साकार होगा। विष्णु सदाशिव कोकजे ने कहा कि जिस गति से कोर्ट में सुनवाई चल रही है, अगले 6 महीने में फैसला आ जाएगा। कोकजे ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि राम मंदिर पर फैसला उनके पक्ष में होगा। लेकिन अगर सुप्रीम कोर्ट का फैसला पक्ष में नहीं आता है, तब केंद्र सरकार से ऑर्डिनेंस लाकर राम मंदिर निर्माण के लिए जमीन देने को कहेंगे। सदाशिव कोकजे ने कहा कि उनका संगठन गौ-रक्षा और हिंदुओं के अधिकारों के लिए काम करता रहेगा।

इधर विनय कटियार के विवादित बोल-

कटियार ने कहा है कि  अगर राम मंदिर का फैसला उनके हक में नहीं आया तो बलिदानी दस्ता बनाया जाएगा, जो राम मंदिर बनाने का काम करेगा। कटियार ने आगे कहा कि बलिदानी दस्ते का संबंध किसी राजनीतिक दल से नहीं होगा। उन्होंने कहा कि इसका गठन तब तक नहीं होगा जब तक सुप्रीम कोर्ट का फैसला नहीं आ जाएगा अगर राम मंदिर नहीं बना तो बलिदानी दस्ते के लिए काम करेगा।

CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग के कांग्रेस के प्रस्ताव को बचकानी हरकत बताते हुए सदाशिव कोकजे ने कहा कि इसका फैसला उपराष्ट्रपति को करना चाहिए। सदाशिव कोकजे ने कहा कि CJI दीपक मिश्रा अक्टूबर में रिटायर हो रहे हैं और राम मंदिर सहित कई मामलों की सुनवाई करते रहेंगे।

तेज हुआ राम मंदिर का मुद्दा-

जाहिर है की नए विहिप अध्यक्ष के बाद राम मंदिर का मूड तेज हो गया है औ इसे एक बार फिर से उठाने की तैयारी की जा रहीए है| आपको बता दे इससे पहले प्रवीण तोगड़िया विहिप के मुख्य थे लेकिन उनके समय में राम मंदिर का मुद्दा भी अधर में लटका रहा| तो वही विनय कटियार हमेशा से ही राम मंदिर को लेकर विवादित बयान दे चुके है जिससे कई बार तनाव का माहौल हो बन चुका था| हालाँकि राम मंदिर बने या बने लेकिन इसको लेकर सरकार जरूर बन चुकी है|

Previous articleबेटियों को समझाओ तो वो सुरक्षित हो जायेगी: मोदी
Next articleमहाभियोग पर उपराष्ट्रपति का आदेश गैरकानूनी, जायेगे सुप्रीम कोर्ट- कांग्रेस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here